गुरुवार, 4 मार्च 2010

जय हो .........

जय हो । आप देश के लिए कुछ करना चाहते हैं तो हमारा साथ दे । और कुछ लिखे । देश के लिए नहीं तो अपने लिए हाय सही लिखे जरुर .........

कोई टिप्पणी नहीं:

125 वर्ष बाद भी विवेकानंद के विचारों को स्वीकारने की जरूरत

शिशिर   बड़कुल    11  सितंबर  1893  का   वह   दिन   जब   अमेरिका   के   शिकागो   में   आयोजित   धर्म   संसद   में  30  वर्ष   के   ...