शुक्रवार, 4 मई 2018

स्तम्भ लेखन

  एक प्रकार का विचारत्मक लेखन है । कुछ महत्त्वपूर्ण लेखक अपने खास वैचारिक रुझान एवं लेखन शैली   के लिए जाने जाते हैं । ऐसे लेखकों की लोकप्रियता को देखकर समाचरपत्र उन्हें अपने पत्र में नियमित स्तम्भ - लेखन की जिम्मेदारी प्रदान करते हैं । इस प्रकार किसी समाचार-पत्र  में किसी ऐसे लेखक द्वारा किया गया विशिष्ट एवम नियमित लेखन जो अपनी विशिष्ट शैली एवम वैचारिक रुझान के कारण समाज में ख्याति प्राप्त होस्तम्भ लेखन कहा जाता है । 
स्तम्भ लेखन विचारपरक लेखन का प्रमुख रूप है। कुछ महत्त्वपूर्ण लेखक अपने खास वैचारिक रुझान वाले होते हैं , ऐसे लेखकों की लोकप्रियता को देखकर अखबार उन्हें नियमित स्तम्भ लिखने का जिम्मा देता है। स्तम्भ का विषय चुनने और उसमें विचार व्यक्त करने की उसे पूरी स्वतंत्रता रहती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

समुदाय संचालित विकास (Society Driven Development)

समुदाय संचालित विकास यानी (Society Driven Development) को सामान्यतया  CDD  भी कहा जाता है। विकास की इस नई अवधारणा में समुदाय को न केवल व...